म्यांमार की कार्रवाई नोबेल शांति पुरस्कार की मौत का प्रतीक: खामनेई

0
6


म्यांमार की कार्रवाई नोबेल शांति पुरस्कार की मौत का प्रतीक: खामनेई

Myanmar
म्यांमार की कार्रवाई नोबेल शांति पुरस्कार की मौत का प्रतीक: खामनेई

भाषा

Updated: September 13, 2017, 12:59 AM IST

रोहिंग्या मुसलमानों पर म्यांमार की कार्रवाई ‘नोबेल शांति पुरस्कार की मौत’ का प्रतीक है. ये बात मंगलवार को ईरान के सर्वोच्च धर्मगुरु ने म्यांमार की नेता आंग सान सू की पर तीखा हमला करते हुए कही.

अयातुल्ला अली खामनेई ने तेहरान में एक भाषण में कहा, ‘एक क्रूर सरकार जिसके शीर्ष पर एक क्रूर महिला बैठी है जिसे नोबेल पुरस्कार मिला है, वो निर्दोष लोगों को मरवा रही है, उन्हें आग के हवाले कर रही है, उनके घरों को नष्ट कर रही है और उन्हें विस्थापित कर रही है लेकिन कोई ठोस प्रतिक्रिया देखने को नहीं मिल रही है.’

कभी म्यांमार की सेना का विरोध करने के लिए अंतरराष्ट्रीय समुदाय से प्रशंसा हासिल करने वाली सू की को अपने देश में मुस्लिम अल्पसंख्यकों पर क्रूर हमले रोकने में विफल रहने के लिए पूरी दुनिया में आलोचना हो रही है. अब वो अपने देश में प्रभावशाली नेता हैं.

खामनेई ने कहा, ‘हां, वो इसकी निंदा करते हैं, बयान जारी करते हैं लेकिन इससे क्या होता है? उन्हें कार्रवाई करनी चाहिए. ये नोबेल शांति पुरस्कार की मौत का प्रतीक है.’ संयुक्त राष्ट्र के मुताबिक तीन लाख 70 हज़ार रोहिंग्या मुसलमान म्यांमार से भाग चुके हैं. म्यांमार की सेना, पिछले महीने रोहिंग्या उग्रवादियों के हमले के जवाब में बड़ा अभियान चला रही है.



First published: September 13, 2017



Source link

उत्तर छोड़ें