भतीजे अखिलेश के अंगना में चाचा की एंट्री, पहले पिता से की थी चाचा को यूपी से बाहर रखने की मांग

0
37


भतीजे अखिलेश के अंगना में चाचा की एंट्री, पहले पिता से की थी चाचा को यूपी से बाहर रखने की मांग

दिसम्‍बर 2016 से इस 15 जनवरी तक चली सपा विवाद की फिल्‍म को बैक करके देखें तो अखिलेश यादव पिता मुलायम सिंह यादव से ऐलान भरे अंदाज में मांग करते हैं कि चाचा शिवपाल यादव को यूपी से बाहर करो तभी कोई बात बन पाएगी.

नासिर हुसैन

नासिर हुसैन

| News18India.com

Updated: January 20, 2017, 6:52 PM IST

दिसम्‍बर 2016 से इस 15 जनवरी तक चली सपा विवाद की फिल्‍म को बैक करके देखें तो अखिलेश यादव पिता मुलायम सिंह यादव से ऐलान भरे अंदाज में मांग करते हैं कि चाचा शिवपाल यादव को यूपी से बाहर करो तभी कोई बात बन पाएगी. लेकिन सस्‍पेंस भरी इस फिल्‍म के अंत में चाचा शिवपाल भतीजे अखिलेश के अंगना में एंट्री करने में सफल हो जाते हैं. खुद भतीजा चाचा के टिकट की घोषणा कर देता है.

सपा में चली रार से हर कोई वाकिफ है. कैसे चाचा-भतीजे में पाले खिंच गए थे. दोनों को एक-दूसरे के चहेते भी फूटी आंख नहीं भा रहे थे. लेकिन चुनावों के ऐन वक्‍त हुआ एकदम उसके उलट. कभी शिवपाल यादव को यूपी से बेदखल करने की मांग करने वाले अखिलेश यादव खुद चाचा को जसवंत नगर सीट से चुनाव लड़ने की टिकट दे देते हैं. इतना ही नहीं कई महीने तक उसूलों की लड़ाई लड़ने के बाद एक बार फिर से अखिलेश यादव उसी ढर्रे पर लौट आए हैं.

अखिलेश यादव ने भी बढ़ाया परिवारवाद

सपा के बड़े चेहरों की बात करें तो अखिलेश यादव ने परिवारवाद की राह पर चलते हुए उनके बेटों को भी टिकट बांट दी है. रामपुर की स्‍वार सीट से मोहम्‍मद आजम खान के बेटे अब्‍दुल्‍ला आजम को टिकट दी गई है. उसी तरह से नरेश अग्रवाल के बेटे नितिन अग्रवाल को हरदोई से टिकट दी गई है. शुक्रवार दोपहर तक बेनी प्रसाद वर्मा के बेटे की टिकट काट दी गई थी. लेकिन दिन बीतते-बीतते राकेश वर्मा को कैसरगंज से टिकट दे दी गई. बेनी प्रसाद वर्मा कुर्मियों में एक बड़ा चेहरा माने जाते हैं.राजनीतिक विश्‍लेषक डॉ. मोहम्‍मद अरशद बताते हैं कि मौजूदा राजनीति जातीय समीकरणों में उलझी हुई है. सपा की इस सूची को देखें तो वर्ग विशेष के वोटों को हासिल करने के लिए पार्टी के बड़े चेहरे वाले नेताओं के पुत्रों को टिकट दी गई है. ये हाल आज सिर्फ सपा ही नहीं सभी पार्टियों का है.



First published: January 20, 2017



Source link

उत्तर छोड़ें