प्रेस कॉन्फ्रेंस करने वाले सुप्रीम कोर्ट के चारों जजों पर महाभियोग चलना चाहिए : आरएस सोढ़ी

0
3


‘प्रेस कॉन्फ्रेंस करने वाले सुप्रीम कोर्ट के चारों जजों पर महाभियोग चलना चाहिए.’

— आरएस सोढ़ी, दिल्ली हाई कोर्ट के पूर्व जज

पूर्व जज आरएस सोढ़ी ने सुप्रीम कोर्ट के चार वरिष्ठ जजों द्वारा प्रेस कॉन्फ्रेंस करने के बाद आया. उन्होंने कहा, ‘सुप्रीम कोर्ट के केवल चार जजों ने शिकायत की, जबकि वहां 23 जज हैं.’ पूर्व जज आरएस सोढ़ी ने आगे कहा, ‘इन जजों ने भारत के मुख्य न्यायाधीश की गलत छवि पेश की है. यह गलत और बचकाना व्यवहार है.’ उन्होंने यह भी कहा कि ट्रेड यूनियनवाद गलत है, उनके कहने भर से लोकतंत्र खतरे में नहीं पड़ जाता, देश में संसद, अदालतें और पुलिस काम कर रही हैं. उनके मुताबिक इन चारों जजों के पास सुप्रीम कोर्ट में बैठने और फैसले सुनाने का अधिकार नहीं बचा है.

‘सुप्रीम कोर्ट के जजों की प्रेस कॉन्फ्रेंस को मैं राजनीतिक रंग नहीं दे रहा हूं.’

— डी राजा, सीपीआई नेता

सीपीआई नेता डी राजा का यह बयान शुक्रवार को तीन अन्य जजों के साथ प्रेस कॉन्फ्रेंस करने वाले जस्टिस जे चेलामेश्वर से मुलाकात पर सफाई देते हुए आया. उन्होंने कहा, ‘मैं जस्टिस चेलामेश्वर को पहले से जानता हूं. जब उनके और अन्य जजों के इस कदम की जानकारी हुई तो मैंने सोचा कि उनसे मिलना चाहिए.’ डी राजा ने आगे कहा कि जजों ने जो सवाल उठाए हैं, वे सभी से जुड़े हैं, जजों की चिंता देश और लोकतंत्र के भविष्य को लेकर है. उधर, भाजपा सांसद सुब्रमण्यम स्वामी ने उनका बचाव किया है. उन्होंने कहा कि इस मुलाकात में क्या है, डी राजा एक राजनेता ही नहीं, बल्कि सांसद भी हैं.


‘भारत को पश्चिमी सेक्टर से उत्तरी सेक्टर में सेना और साजोसामान को भेजने की क्षमता हासिल करनी होगी.’

— बिपिन रावत, थल सेनाध्यक्ष

थल सेनाध्यक्ष जनरल बिपिन रावत का यह बयान भारतीय सेना को किसी भी चुनौती से निपटने में सक्षम बताते हुए आया. उन्होंने कहा, ‘सेना और हथियारों को एक सेक्टर से दूसरे सेक्टर में भेजने की क्षमता विकसित करने की जरूरत है और हम इसी पर ध्यान दे रहे हैं.’ चीनी सीमा पर सैनिकों को स्टाइलिश हेलमेट देने के बारे में जनरल बिपिन रावत ने कहा कि चीनी सैनिक अच्छे उपकरणों से लैस होते हैं, जिसे देखते हुए भारतीय सैनिको को भी अच्छी गुणवत्ता के उपकरण दिए जा रहे हैं. जनरल बिपिन रावत ने चीन द्वारा आतंकवाद को सीधे समर्थन दिए जाने से इनकार किया.


‘जज बीएच लोया की मौत की उच्चस्तरीय जांच होनी चाहिए.’

— राहुल गांधी, कांग्रेस के अध्यक्ष

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी का यह बयान सुप्रीम कोर्ट के चार वरिष्ठ जजों द्वारा प्रेस कॉन्फ्रेंस में उठाए गए सवालों को गंभीर बताते हुए आया. उन्होंने कहा, ‘इन जजों ने अभूतपूर्व कदम उठाया है, उनकी बातों को गंभीरता से लेना चाहिए.’ राहुल गांधी ने आगे कहा कि जिन्हें न्याय से प्यार है और सुप्रीम कोर्ट पर भरोसा है, वे सभी लोग इस मामले को देख रहे हैं, इसका हल निकालना बहुत जरूरी है. उधर, सरकार ने इसे न्यायपालिका का अंदरूनी मामला बताया है. इस बीच अटॉर्नी जनरल केके वेणुगोपाल ने कहा है कि जजों की इस प्रेस कॉन्फ्रेंस को टाला जा सकता था.


‘पाकिस्तान अमेरिका से बंद सैन्य सहायता को दोबारा शुरू करने की मांग नहीं करेगा.’

— कमर जावेद बाजवा, पाकिस्तान के सेनाध्यक्ष

पाकिस्तानी सेनाध्यक्ष कमर जावेद बाजवा ने यह बात यूएस सेंट्रल कमांड के जनरल जोसेफ एल वोटल से बातचीत के दौरान कही. उन्होंने कहा कि पाकिस्तान में अमेरिका द्वारा सैन्य सहायता रोकने के फैसले को धोखा देने के तौर पर देखा जा रहा है. जनरल कमर जावेद बाजवा ने आगे कहा, ‘पाकिस्तान चाहता है कि अमेरिका शांति और स्थिरता के लिए आतंक के खिलाफ लड़ाई में उसके सहयोग और बलिदान को मान्यता दे.’ उनका यह भी कहा कि पाकिस्तान को बलि का बकरा बनाने की कोशिशों के बावजूद वह अफगानिस्तान में अपना सहयोग जारी रखेगा.



Source link

उत्तर छोड़ें